कहां-कहां लगाओगे धारा १४४?


कहां-कहां लगाओगे धारा १४४? जहां होंगे हम, वहीँ बैठ जाएंगे अनशन पर? हर हिन्दुस्तानी बन जाएगा जंतर-मंतर और राजघाट, चाहो तो आजमा लो!

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *


*