अधूरी


दोस्तों से दूर होना मज़बूरी होती है

दोस्तों से दूर होना मज़बूरी होती है; हकीकत की दुनिया भी ज़रूरी होती है; कौनसी हसरत है जो सपनों से पूरी होती है; दोस्त न हो तो हर ख़ुशी अधूरी होती है!